Bhadas For India

Uttarakhand Rojgar Samachar

गंगोत्री धाम से दर्शन कर मध्यप्रदेश तीर्थ यात्री बस दुर्घटनाग्रस्त 20 की मौत

गंगोत्री धाम से दर्शन कर मध्यप्रदेश तीर्थ यात्री बस दुर्घटनाग्रस्त 20 की मौत Gangotri dham road axident madhya pradesh 20 PERSON DEAD Gangotri dham road axident madhya pradesh 20 PERSON DEAD

गंगोत्री धाम के दर्शन के बाद उनको पता नहीं था की अगला पल उनकी जीवन का अंतिम पल बन जायेगा चंद मिनटों में ही मध्य प्रदेश के रहने वाले उत्तराखंड की यात्रा पर आये इन लोगो को पता भी नहीं था की उनका सामना मौत से होने जा रहा है भगवान गंगोत्री धाम के दर्शन के बाद उनका परिवार सहित वापिसी का रास्ता अपने अपने घरो की तरफ बढ़ रहा था लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था अगर ऐसा नहीं होता तो उनकी जिंदगी मौत से लड़ कर वापिस आ गयी होती।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत के घटना पर दुःख व्यक्त किया है और मामले की जांच के आदेश दिए है इसके आलावा मृतक परिवारों को एक एक लाख घायलों को पचास पचास हज़ार रूपए दिए जाने के निर्देश दिए गए है गंगोत्री धाम से दर्शन कर लौट रही इंदौर मध्यप्रदेश के यात्रियों से भरी बस गंगोत्री हाईवे पर नालूपानी के पास गहरी खाई में गिरी। जिसमें 20 यात्रियों की मौके पर ही मौत हुई। तीन यात्रियों का अभी तक कोई पता नहीं चल पाया है, जबकि सात घायल यात्रियों को रेस्क्यू कर निकाला गया है। जिन्हें सीएचसी चिन्यालीसौड में प्राथमिक उपचार के लिए लाया गया।
मंगलवार सुबह को गंगोत्री धाम के दर्शन करने के बाद इंदौर मध्यप्रदेश के 57 यात्रियों का दल दो बसों में सवार होकर वापस लौटा। चालक परिचालक समेत 31 यात्री एक बस में थे तथा 30 यात्री दूसरी बस में सवार थे। दोनों बसे आगे पीछे चल रही थी। शाम करीब छह बजे 30 यात्रियों से भरी बस उत्तरकाशी से 25 किलोमीटर दूर ऋषिकेश की ओर गंगोत्री हाईवे पर नालूपानी में बस अनियंत्रित होकर 300 मीटर गहरी खाई में गिरी।

कुछ यात्री छिटक कर भागीरथी नदी में गिरे। उत्तरकाशी से चिन्यालीसौड़ जा रहे भाजपा के जिलाध्यक्ष रामसुंदर नौटियाल ने जिलाधिकारी डॉ. आशीष श्रीवास्तव व एसपी को घटना की सूचना दी। साढ़े छह बजे डीएम व एसपी मौके पर पहुंचे। साथ ही एसडीआरएफ, आइटीबीपी, पुलिस व निम की टीम मौके पर गई। लेकिन जिस स्थान से यात्री बस खाई में गिरी उस स्थान पर खड़ी पहाड़ी होने के कारण टीम रेस्क्यू के लिए नहीं उतर पाई।
यात्रा मार्ग पर लगातार सड़क हादसों से अभी तक कई परिवार मौत की नींद सो चुके है यात्रा मार्ग पर हर साल इसी तरह दुर्घटना के कारण मौतों का सिलसिला जारी रहता है जिस का प्रमुख कारण पहाड़ी मार्गो पर जाने वाले वाहनों को पर्वतीय जनपदों में गाड़ी चलाये जाने का अच्छा अनुभव न होना भी सामने आता रहा है लेकिन इन सब के बाद भी वाहन पर्वतीय जनपदों में सफर तय करते रहते है जब की राज्य सरकार को बिना अनुभव विहीन वाहनों को पर्वतीय जनपदों की यात्रा पर जाने की अनुमति नहीं देने चाइये पिछले वर्ष भी यात्रा मार्ग पर कई वाहन दुर्घटना ग्रस्त हुए थे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright 2017 Media Solution Pvt. Limited Frontier Theme